ज़िन्दगी है

हादसों के सिलसिलों का नाम ही तो ज़िन्दगी है टूटती हूँ बिखरती हूँ फिर ख़ुद को समेटती हूँ जब तक हैं सांसें जी लूँ, कुछ कर लूँ खुश रहे जो लोग हैं, इतनी सी तुझसे बंदगी है ऐ ख़ुदा! तूने जो दिया उसके लिए मुझपर क़र्ज़ है तेरा जो ना दिया, वो भी ठीक है… Continue reading ज़िन्दगी है

Do not Fall… Rise In Love

One must never give anybody the power to destroy oneself. As cliched as the title of this blog may sound (I actually remember this line from some SRK movie), however, it is indeed true.  Women generally tend to percieve love as a different entity. They forget their individuality, self respect and even their very existence.… Continue reading Do not Fall… Rise In Love